कोडरमा कोर्ट ने बेटी की हत्या के मामले में माता-पिता और चाचा-चाची को दी फांसी की सजा

कोडरमा कोर्ट ने बेटी की हत्या के मामले में माता-पिता और चाचा-चाची को दी फांसी की सजा

कोडरमा जिले की निचली अदालत ने ऑनर किलिंग के मामले में चार लोगों को फांसी की सजा सुनायी है। ये चारों लोग मृतक लड़की के माता-पिता और चाचा-चाची हैं। फिहहाल चारों लोग जेल में बंद हैं और इनके पास उपरी अदालत में जाने का रास्ता खुला हुआ है।

दरअसल कोडरमा के चंदवारा थाना इलाके की रहने वाली सोनी कुमारी (22) दूसरी जाति के युवक से प्रेम करती थी और वह उसके साथ ही रहने चली गई थी। घर वाले बेटी की इस हरकत से नाराज थे।

इसी बीच युवती के पिता ने बेटी को यह कहते हुए घर बुला लिया कि वे उसकी शादी प्रेमी के साथ ही कर देंगे। पिता की बात मानकर बेटी वापस घर लौट गई। घर लौटने के बाद पिता और परिजनों ने उसे काफी समझाने-बुझाने की कोशिश की, लेकिन वह प्रेमी के साथ रहने की जिद पर ही अड़ी रही।

बेटी के इसी जिद से नाराज परिजनों ने 25 अगस्त 2018 को उसकी गला घोंटकर उसकी हत्या कर दी। आनन-फानन में अंतिम संस्कार के लिए शव को श्मशान घाट लेकर भी चले गएं, लेकिन इसी दौरान पुलिस को घटना की सूचना मिल गई। पुलिस तुरंत मौके पर पहुंची और शव को कब्जे में ले लिया।

इस मामले में चंदवारा के तत्कालीन थाना प्रभारी सोनी प्रताप की शिकायत पर चार लोगों के खिलाफ IPC की धारा 302, 301, 511, 120 व 34 के तहत केस दर्ज किया गया। कोरडरमा कार्ट ने इस मामले में स्पीडी ट्रायल के जरीए सुनवाई की। ढाई साल के सुनवाई के बाद 15 मार्च को जिला एवं सत्र न्यायाधीश रामाशंकर सिंह की कोर्ट ने मृतक के पिता किशन साव, मां दुलारी देवी, चाचा सीताराम साव और चाची पार्वती देवी को हत्या का दोषी पाया और सजा पर फैसला सुरक्षित रख लिया।

गुरूवार को कोर्ट ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए चारों दोषियों को फांसी की सजा सुनायी।कोर्ट ने जिन दोषियों को फांसी की सजा सुनाई, वे फिलहाल मंडल कारा जेल में बंद हैं। इस मामले में कुल 16 गवाहों को पेश किया गया था। इनमें युवती की एक बहन भी शामिल थी।

Jharkhand LIVE Staff

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page