एंटी–CAA प्रदर्शन : 101 दिन बाद शाहीनबाग को दिल्ली पुलिस ने खाली करवाया

एंटी–CAA प्रदर्शन : 101 दिन बाद शाहीनबाग को दिल्ली पुलिस ने खाली करवाया

भारत में नागरिकता कानून के खिलाफ हो रहे विरोध प्रदर्शन का प्रतीक बन चुके दिल्ली के शाहीनबाग इलाके को मंगलवार के दिन दिल्ली पुलिस ने खाली करवा लिया है. दिल्ली पुलिस का कहना है कि देशभर में कोरोनावायरस के कहर के चलते कई जगह लॉकडाउन किया जा रहा है. राजधानी दिल्ली में भी लॉकडाउन किया गया है, साथ ही पांच से ज्यादा लोगों के एक साथ खड़े होने पर भी प्रतिबंध है, ऐसे में शाहीनबाग में लोगों का इकट्ठा होना संक्रमण को बढ़ा सकता था.

दक्षिण दिल्ली के डीसीपी आरपी मीणा के नेतृत्व में पुलिस ने इस पूरी कार्यवाही को अंजाम दिया गया। इस दरम्यान स्थानीय लोगों की एक बड़ी भीड़ प्रदर्शन स्थल के पास जमा हो गई थी। हालांकि पुलिस की मुस्तैदी और अर्थसैनिक बलों की तैनाती से हालात नियंत्रण में रहे। सड़क के खाली होते ही वाहनों की आवाजाही सुचारु रूप से शुरू हो गई है। इसके बाद कुछ अन्य लोगों ने डीसीपी मीणा को फूल देकर उनका अभिवादन भी किया।

शाहीनबाग के अलावा दिल्ली के हौज़ रानी प्रदर्शन स्थल को भी खाली करा लिया गया है। यहाँ भी पिछले कई सफ्ताह से सीएए – एनआरसी के विरूद्ध लोग जमा थे।    

मालूम हो कि कोरोनावायरस के संक्रमण को लेकर शाहीन बाग में पहले ही लोगों को न आने की सलाह दी गई थी और सांकेतिक तौर पर दो महिलाएं वहां बैठ कर विरोध दर्ज करा रही थीं. अब पुलिस ने उन्हें भी वहां से हटा दिया. संसद के दोनों सदनों से नागरिकता कानून पास होने के बाद देशभर में इसके खिलाफ प्रदर्शन हुए थे, शाहीनबाग उन प्रदर्शनों का प्रतीक बनकर उभरा था.

हालांकि शाहीनबाग के धरने को हटाने की कई कोशिशें पहले भी की जा चुकी हैं. एक तरफ सत्ता पक्ष के कई नेता शाहीनबाग के प्रदर्शनकारियों की तुलना आतंकियों से कर चुके थे, तो वहीं कई लोगों ने सड़क जाम होने से उपजी समस्याओं के चलते सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया. सुप्रीम कोर्ट ने भी दो सदस्यों की एक समिति को शाहीनबाग भेजकर मध्यस्थता की पेशकश की. हालांकि प्रदर्शन जारी रहा.

बताते चलें कि कोरोनावायरस के प्रकोप के चलते देशभर के कई राज्य पूरी तरह से लॉकडाउन किए जा चुके हैं. नियमों का उल्लंघन कर घर से बाहर निकलने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जा रही है. अब तक ये वायरस भारत में साढ़े चार सो से ज्यादा लोगों को अपनी जद में ले चुका है. जिनमें से 10 की मौत हो चुकी है.

Jharkhand LIVE Staff

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page