एक दर्पण के ज़रिए समझिये समाज की सच्चाई को।

एक दर्पण के ज़रिए समझिये समाज की सच्चाई को।

भारत जैसे बड़े देश में व दुनिया भर में मीडिया को लोकतंत्र का चौथा अथवा महत्वपूर्ण स्तम्भ बताया जाता है. मीडिया मतलब हर वह माध्यम जिससे जनता तक जानकारियाँ, विचार व नीतियाँ पहुँच सके. इस मीडिया के तंत्र में समाचार पत्र, पुस्तक, पत्रिकाएं, टेलीवीजन, रेडियो, इन्टरनेट इत्यादि हैं. टीवी समाचार चैनल करीब 90 के दशक में भारत में आना शुरू हुए, उससे करीब 150 वर्ष पूर्व ही समाचार पत्र, पत्रिकाएं प्रचलित हो चुकी थीं और 90 के दशक तक समाज का दर्पण समाचार पत्र बन चुके थे. ‘राष्ट्र की आवाज़: समाचार पत्र’- ऐसे वाक्य प्रचलित हो चुके थे और जो समाचार पत्र कहे वही जन जन की आवाज़ है; ऐसा माना जाने लगा था. देश में टीवी समाचार चैनल और भी तेज़ी से स्थापित हुए और समाचार पत्र के पत्रकार व टेलीविजन चैनल के पत्रकारों ने मिलकर मीडिया की प्रमाणिकता को लगभग समाप्त कर दिया और अपने निजी स्वार्थ के चक्कर में देश का बंटाधार करने लगे और देश तोड़ने में लग गए. ऐसे में समय बीता और 21वीं सदी में सोशल मीडिया का आगमन हुआ. इन्टरनेट के काल में अब दुनिया समाचार इन्टरनेट से ही प्राप्त करती है और जनता आज स्वयं रिपोर्टर है. ऐसे अनेक स्टार्टअप लोगों ने खुद शुरू किये और जनता तक बात पहुँचाई; हालाँकि प्रमाणिक यह माध्यम भी बहुत ज्यादा नहीं है, मगर मीडिया की प्रमाणिकता जिस कारण समाप्त हुई उसका कारण बेईमानी और पैसों का शक्ति का लोभ है, जो आम जनता में नहीं होती, इसलिए यह मनना कठिन है कि लोग अपनी ख़बर बेचेंगे, बदलेंगे या उस ख़बर की नीयत बदल देंगे, जो काम मीडिया करती है. 

मीडिया में फैले इस कुकर्म से लड़ने का काम सोशल मीडिया से शुरू हुआ, और एक एक पत्रकार, एक एक प्रभावशाली व्यक्ति की पोल खुलनी शुरू हो गयी. मगर उन्हें बचाने के लिए सोशल मीडिया पर भी उन्मादी लोग आ गए, कुछ स्वायत्त मीडिया पोर्टल ने इनके सफाये के लिए बीड़ा उठाया है. उनमे से एक नाम है- ‘एक दर्पण’.

एक दर्पण एक मीडिया पोर्टल है, जो फेसबुक, इंस्टाग्राम, ट्विटर व् हेलो एप्प पर उपलब्ध है. इस पोर्टल ने टुकड़े टुकड़े मीडिया की सफाई करने का यानि सोशल मीडिया पर फ़ैल रही नकारात्मकता, नफरत और झूठे विमर्श को ख़त्म करने का बीड़ा उठाया है, और उसके लिए तीन मुख्य कामों पर ध्यान दिया है: त्वरित प्रतिक्रिया, फैक्ट फाइंडिंग, स्मरणीय दिवस. फेसबुक पेज के माध्यम से सही सूचना जन – जन तक पहुँचाता है. इस पेज को लाइक और फॉलो करने वालों की संख्या इन सभी सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट पर 90,000 से अधिक है.

ख़बरों में फैले सच- झूठ को सामने लाना. 

सोशल मीडिया के आने के साथ जहाँ कई अच्छी बातें आई वहीँ कई दुष्परिणाम भी सामने आये. जैसा कि ऊपर बताया भी हमने कि प्रमाणिकता की कमी तो सोशल मीडिया पर भी है, ऐसे में कोई भी झूठी ख़बर या ऐसी ख़बर चल पड़ती है जिसमें पूरी सच्चाई न हो. ऐसे में समाज भटक जाता है, जिससे अफवाह और दंगों की स्थिति पनपती है. इस परेशानी से लड़ने का भी बीड़ा ‘एक दर्पण’ ने उठाया है. फैक्ट फाइंडिंग यानि तथ्य परखने का काम भी एक दर्पण बखूबी निभा रहा है. ऐसे कई ख़बर व् वीडियों हैं जिनकी तथ्यपरकता एक दर्पण ने की है, और इस काम को आगे भी करता रहेगा. 

Jharkhand LIVE Staff

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page