दिशा की गिरफ्तारी पर बोली JMM- देश के तानाशाहों को सबसे ज़्यादा डर युवाओं से

दिशा की गिरफ्तारी पर बोली JMM- देश के तानाशाहों को सबसे ज़्यादा डर युवाओं से

दिल्ली पुलिस ने टूलकिट के मामले में बेंगलुरु की जलवायु कार्यकर्ता 22 वर्षीय दिशा रवि (Disha Ravi) को गिरफ्तार किया है। फिलहाल कोर्ट नें दिशा को पांच दिनों की रिमांड पर सौंपा है, लेकिन गिरफ्तारी पर विपक्ष सवाल उठा रहा है।

झारखंड की सत्ता पर काबिज झामुमो ने दिशा की गिरफ्तारी पर अपनी प्रतिक्रिया दी है। झामुमो ने ट्वीट कर लिखा “इस देश के तानाशाहों को सबसे ज़्यादा डर आज युवाओं से है। उन्हें पता है की जिस दिन युवा हिंदू-मुसलमान, पाकिस्तान – चीन, जात- पात से ऊपर उठ गया, अपने हक़ों को लेकर जागृत हो गया – उस दिन इनकी ‘तोड़ो लड़ाओ और राज करो’ की नीति फेल हो जायेगी। देश की एक 21 साल की बेटी की गिरफ़्तारी इनके डर का सबूत है और साथ ही देश के युवाओं के लिए संदेशा भी है की अपने हक़ों के लिए उठ खड़े होने का वक़्त आ गया है”।

दरअसल किसानों का समर्थन करते हुए स्वीडिश की जलवायु कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग ने टूलकिट शेयर किया था। पुलिस का आरोप है कि इस टूलकिट को दिशा रवि ने ही एडिट किया है और उसे सोशल मीडिया पर शेयर किया। पुलिस ने इसके साथ ही आरोप लगाया है कि टूलकिट मामला खालिस्तानी ग्रुप को दोबारा खड़ा करने और भारत सरकार के खिलाफ एक बड़ी साजिश है। यही नहीं पुलिस ने 26 जनवरी की हिंसा में भी टूलकिट की साजिश के संकेत दिए हैं।

क्या होता है टूलकिट?

“टूलकिट” किसी भी मुद्दे को समझाने के लिए बनाया गया एक गूगल डॉक्यूमेंट होता है। यह इस बात की जानकारी देता है कि किसी समस्या के समाधान के लिए क्या-क्या किया जाना चाहिए? यानी इसमें एक्शन प्वाइंट्स दर्ज होते हैं। इसे ही टूलकिट कहते हैं। इसका इस्तेमाल सोशल मीडिया के संदर्भ में होता है, जिसमें सोशल मीडिया पर कैम्पेन स्ट्रेटजी के अलावा वास्तविक रूप में सामूहिक प्रदर्शन या आंदोलन करने से जुड़ी जानकारी दी जाती है। इसमें किसी भी मुद्दे पर दर्ज याचिकाओं,  विरोध-प्रदर्शन और जनांदोलनों के बारे में जानकारी शामिल हो सकती है।

Jharkhand LIVE Staff

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page