10 लाख के इनामी जोनल कमांडर अलोक यादव को सुरक्षाबलों ने किया ढ़ेर, चतरा का रहने वाला था

10 लाख के इनामी जोनल कमांडर अलोक यादव को सुरक्षाबलों ने किया ढ़ेर, चतरा का रहने वाला था

बिहार के गया जिले के बाराचट्टी (Barachatti) में नक्सलियों ने शनिवार देर रात को दो लोगों गोली मारकर हत्या कर दी। इस हत्याकांड बाद सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ हो गया। जिसमें सुरक्षाबलों ने 10 लाख के इनामी नक्सली सहित तीन नक्सलियों को मार गिराया। इनामी नक्सली झारखंड का रहने वाला था।

दरअसल बाराचट्टी थाना क्षेत्र के राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या दो  (NH- 2) के किनारे महुअरी (Mahuari) गांव में शनिवार की देर रात नक्सलियों ने नगरपुरडीह के मुखिया के देवर वीरेंद्र यादव और उनके एक सहयोगी की गोली मारकर हत्या कर दी थी। घटना को अंजाम देकर नक्सली वहां से भाग रहे थे, तभी वहां पुलिस और कोबरा 205 कंपनी की टीम ने घेराबंदी कर दी।

इसके बाद दोनों तरफ से कई राउंड फारिंग हुई। जिसमें तीन नक्सली मारे गए, जबकि कोबरा के चार जवान घायल हो गए है। मारे गए नक्सलियों में एक झारखंड का इनामी नक्सली आलोक यादव भी शामिल है। उसके उपर झारखंड सरकार ने 10 लाख रूपया का इनाम रखा था।

चतरा का रहने वाला है, परिवार ने की शव भेजने की मांग

पुलिस मुठभड़े में मारा गया नक्सली चतरा जिला के सदर थाना क्षेत्र के सिकिद गांव का रहने वाला है। वह 14 साल की उम्र में माओवादी संगठन से जुड़ा था, तब से लगातरा सक्रिय था। बताया जाता है कि आलोक यादव को उनके ही गांव के एक व्यक्ति द्वारा हत्या के मामले में फंसाया गया था। न्याय नहीं मिलने की स्थिति में आलोक ने नक्सली संगठन का दामन थामा और नक्सलियों के लिए काम करने लगा। इसके ऊपर बिहार और झारखंड में लगभग एक दर्जन अपराधिक मामले दर्ज हैं।

वहीं बिहार पुलिस ने तीन नक्सलियों के शवों का पोस्टमार्टम करा दिया है। खबर लिखे जाने तक सभी का शव गया जिला मुख्‍यालय स्थित अनुग्रह नारायण मेडिकल कॉलेज में रखा हुआ है। चतरा के मारे गए नक्सली के परिजनों ने शव को प्रशासन द्वारा भेजे जाने की मांग की। उन्होंने शव ना लाने जाने के पीछे घर की आर्थिक स्थिति का हवाला दिया है।

This image has an empty alt attribute; its file name is WhatsApp-Image-2020-11-17-at-9.07.31-PM.jpeg

वहीं बिहार पुलिस ने बताया कि महुअरी गांव में नक्सलियों के पहले से आने की सूचना थी। इसी सूचना के आधार पर पुलिस वहां से जाने की तैयारी कर रही थी, लेकिन पुलिस से पहले ही नक्सली गांव पहुंच गए और दो लोगों की हत्या कर दी। बाद में सुरक्षाबलों ने उन्हें घेर लिया और तीन नक्सलियों को मार गिराया। पुलिस ने मौके से एक एके-47 और एक इंसास राइफल के साथ ही कई कारतूस और अन्य विस्फोटक सामग्री बरामद की है

गौरतलब है कि नक्सलियों की टीम ने जिस वीरेंन्द्र यादव की हत्या की है, वह और उसका परिवार नक्सलियों के निशाने पर शुरू से ही रहा है। कई साल पहले वीरेंद्र यादव के भाई की हत्या नक्सलियों ने सासाराम इलाके में कर दी थी और वह खुद नक्सलियों के भय से अपने गांव को छोड़कर बाराचट्टी शहर में रहता था, लेकिन छठ महापर्व के अवसर पर वह अपने गांव आया हुआ था, जिसका फायदा उठाकर नक्सलियों ने उसकी हत्या कर दी।

Jharkhand LIVE Staff

0 thoughts on “10 लाख के इनामी जोनल कमांडर अलोक यादव को सुरक्षाबलों ने किया ढ़ेर, चतरा का रहने वाला था

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page