धनबाद: सिटी SP से बोली युवती-दारोगा ने चलती बस में बनाया शारीरिक संबंध, एक साल कर रहा है यौन शोषण, अब कर रहा है शादी से इंकार

धनबाद: सिटी SP से बोली युवती-दारोगा ने चलती बस में बनाया शारीरिक संबंध, एक साल कर रहा है यौन शोषण, अब कर रहा है शादी से इंकार

धनबाद के बलियापुर थाने में तैनात प्रशिक्षु दारोगा हरि मोहन मरांडी पर एक युवती ने यौन शोषण का आरोप लगाया है। पीड़ित युवती ने सोमवार को इस मामले की शिकायत सिटी एसपी आर रामकुमार से की। जिसके बाद एसपी ने पूरे मामले की जांच का जिम्मा धनबाद महिला थाना को सौंपा है। 

पीड़ित युवती ने अपनी शिकायत में कहा कि वह प्रशिक्षु दारोगा हरि मोहन मरांडी के साथ एक साल से रिलेशनशिप में थी और इस दौरान दारोगा ने शादी का वादा करके कई बार यौन संबंध बनाया।  सिटी एसपी को दिए आवेदन में युवती ने बताया है कि आरोपी दारोगा गोड्डा महागामा का रहने वाला है और उसके गांव में दारोगा की बहन की शादी हुई है।  इस कारण हम दोनों की साल 2019 में जान -पहचान  हो गई। इसके बाद जब उसकी पुलिस में नौकरी लगी तो वो मुझे भी अपने साथ धनबाद लेकर आ गया। आते समय उसने चलती बस के स्लीपर में ही मेरे साथ शारीरिक संबंध बनाए।

युवती ने शिकायत में बताया है कि वह धनबाद में किराए पर कमरा लेकर रहती है और इस कमरे में दारोगा हरि मोहन मरांडी अक्सर मिलने के लिए आया करता था। इस दौरान वह शारीरिक संबंध बनाता था। हाल में ही वह चुनाव ड्यूटी  में दुमका गया हुआ था तो उसने मुझे दुमका बुलाकर भी यौन शोषण किया।

लेकिन अब जब मैंने उसे कोर्ट मैरेज करने के लिए कहा तो वो इससे इंकार कर दिया  और मुझसे बात करना बंद कर दिया। जब मैंने उसे कई बार फोन किया तो उसने मेरा नंबर को ब्लॉक कर दिया। पीड़ित युवती ने कहा कि शादी की झांसा देकर उसने कई बार संबंध बनाए और मेरी जिंदगी के साथ खिलावड़ किया है, इसलिए पुलिस मुझे इंसाफ दिलाए।

युवती की शिकायत पर सिटी एसपी ने जांच करने के आदेश दिए है। इस जांच का जिम्मा धनबाद की महिला थाना की पुलिस को सौंपा गया है। जांच में अगर दारोगा गलत पाए जाता है तो उसपर कार्रवाई होगी। फिलहाल महिला थाना की पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है। पीड़ित युवती उपराजधानी दुमका की रहने वाली और वह धनबाद के एक निजी अस्पताल में नर्स का काम करती है।

Jharkhand LIVE Staff

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page