बाबूलाल मरांडी ने CM पर किया पलटवार, पूछा- महिला को थाने में पिटने वाले थानेदार को क्यों बचाया ?

बाबूलाल मरांडी ने CM पर किया पलटवार, पूछा- महिला को थाने में पिटने वाले थानेदार को क्यों बचाया ?

दुमका गैंगरेप पर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने एक पोस्ट लिखा है। इस पोस्ट में उन्होंने बीजेपी को अपने निशाने पर लिया है, लेकिन मुख्यमंत्री के इस पोस्ट पर बीजेपी विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी ने पलटवार किया है।

बाबूलाल मरांडी ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को जवाब देते हुए लिखा “तारीख 27 जुलाई 2020। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन जी के विधानसभा क्षेत्र बरहेट के थानेदार की वीडियो सामने आयी थी। महिला को थाने में पीटते और गाली देते थानेदार हरीश पाठक पर भी कड़ी कार्रवाई की बात आपने ताल ठोंक के ट्वीट किया था। लेकिन हुआ क्या?


एफआईआर में छेड़छाड़ की शिकायत के बावजूद आपकी पुलिस ने संबंधित ग़ैर ज़मानतीय धारा में केस नहीं किया। जब इस गलती पर तत्कालीन डीआईजी ने साहिबगंज पुलिस से वजह पूछा तो आपने महज़ तीन महीने के कार्यकाल वाले डीआईजी का तबादला कर वहाँ एक ऐसे डीआईजी को बैठाया जिसे आपके परिवार की वरीय सदस्य (आपकी भाभी) विधायक सीता @SitaSorenMLA जी भी चोरों-लुटेरों का शागिर्द बता रही हैं। एफआईआर में छेड़छाड़ की शिकायत के बावजूद आपकी पुलिस ने संबंधित धारा में केस नहीं किया। पूछ सकता हूँ , क्यों आपके प्रभारी डीजीपी @MVRaoIPS ने उस अधिकारी को बचाया?


क्या वो अधिकारी एक मिनट भी जांच के लिए ही सही हिरासत में रहा? साहेबगंज में बिटिया गैंगरेप की शिकार हुई, मार दी गयी। आपकी पुलिस ने क्या किया? पंचायत भरोसे केस को मैनेज करने में लगे रहे। रांगा थानेदार ने गैंगरेप- हत्या के मामले को मैनेज करने की गुस्ताखी की।


आपने क्या किया? क्या आपको नहीं लगता कि दुष्कर्म के मामलों में तथ्यों को छिपाकर आपने बलात्कारियों का मनोबल ही बढ़ाया है।अगर आपने बरहेट में युवती को पीटने-बेईज्जत करने वाले दारोग़ा को एक दिन के लिये भी जेल भिजवा दिया होता तो महिलाओं/युवतियों/ बच्चियों के सम्मान और आबरू बचाने के लिये पुलिस चौकस रहती। और शायद इतने ख़राब दिन की नौबत नहीं आती।


अब दुमका की बात। आप इंसाफ दिलाने की जगह हाथरस की घटना का उदाहरण दे रहे हैं। यूपी में सरकार ने मामले में सीबीआई से जांच भी करवाई। आप इंसाफ की बात करें, संवेदनशील मसलों पर राजनीति न करें।

दुमका गैंगरेप पर CM ने कहा- ये यूपी नहीं, झारखंड है, दोषियों को मिलेगी कड़ी सजा

Jharkhand LIVE Staff

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page