बाबूलाल ने CM को पत्र लिखकर लालू के लिए बंद हुए रिम्स के 19 कमरों को लेकर उठाए सवाल

बाबूलाल ने CM को पत्र लिखकर लालू के लिए बंद हुए रिम्स के 19 कमरों को लेकर उठाए सवाल

राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव के सुरक्षा का हवाला देकर प्रशासन ने रिम्स के 19 कमरों में ताला लगा दिया है। जिस पर अब राजनीति शुरू हो गई है। बीजेपी विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी ने इसको लेकर सवाल उठाए है और मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को एक पत्र लिखा है।

पत्र में बाबूलाल मरांडी ने लिखा

मा0 मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन जी, 

      झारखंड में कोरोना से निपटने के लिए राज्य सरकार का इंतजाम नाकाफी है। माननीय झारखंड उच्च न्यायालय द्वारा राज्य में हर तरफ अव्यवस्था का आलम बतलाते हुए यहां की बदइंतजामी पर गहरी चिंता भी जाहिर की गई है।

      राज्य में इस महामारी का संक्रमण काफी तेजी से बढ़ा है। आलम यह है कि बनाए गए कोविड सेंटरों में बेड तक कम पड़ रहा है। कोरोना मरीज इस कोविड सेंटर से उस कोविड सेंटर तक भटकने/तड़पने को मजबूर हैं। बावजूद मरीजों को बेड उपलब्ध नहीं हो रहा है। क्या पुलिसकर्मी, क्या पत्रकार तो क्या वे चिकित्सक जो खुद मरीजों का इलाज करते रहे हैं, उन्हें बेड नहीं मिल पा रहा है। इससे हालात का अंदाजा व सरकार की तैयारियों का सहज अनुमान लगाया जा सकता है। 

      वहीं इस बीच दूसरी तरफ जो सूचना प्राप्त हो रही है वह हैरान करने वाली है। सूचना के अनुसार रिम्स में इलाजरत श्री लालू प्रसाद जिस फ्लोर पर भर्ती हैं उसके नीचे वाले फ्लोर पर सुरक्षा के नाम पर 19 कमरों को बेवजह बंद करके रखा गया है। सवाल है कि जहां एक तरफ एक-एक बेड के लिए इतना त्राहिमाम और घमासान मचा हुआ है, मरीज बेड के लिए परेशान हो रहे हैं और दूसरी तरफ 19 कमरों पर अनावश्यक रूप से बंद रखना समझ से परे है। इन 19 कमरों में न्यूनतम 40 मरीजों का तो इलाज हो ही सकता है। आखिर ऐसा किसके शह पर हुआ है। ऐसे में जिस प्रकार की अव्यवस्था व कुव्यवस्था है, उच्च न्यायालय की टिप्पणी व चिंता भी छोटी लग रही है। उच्च न्यायालय को समाज के लोगों के साथ अपने लोगों के भी समुचित इलाज की चिंता वाजिब है।

लालू जी स्वयं काफी संवेदनशील व्यक्ति हैं। हो सकता है कि यह सब लालू प्रसाद जी के संज्ञान में नहीं हो। मुझे पूर्ण विश्वास है कि जनता के समक्ष उत्पन्न प्राण संकट की इस घड़ी में उन्हें पता चलेगा कि कुछ लोग उनकी सुरक्षा के नाम पर ऐसी मनमानी कर रहे हैं तो वे इन चीजों को कतई बर्दाश्त नहीं करेंगे। संभवतः यह आपकी जानकारी में भी नहीं होगा। यह लालफीताशाही और तुष्टिकरण का नतीजा हो सकता है। हम यह हम आपके संज्ञान में ला रहे हैं। कम-से-कम जहां लोगों की जान बचायी जा सकती है, वहां सुरक्षा के नाम पर तो इस प्रकार का खिलवाड़ नहीं होना चाहिए। विश्वास है, आप भी ऐसे नाजुक मौके पर इस प्रकार की मनमानी की अनदेखी नहीं करेंगे।

मुख्यमंत्री जी, आप इस पर तत्काल संज्ञान लें और इन कमरों को अविलंब खोलकर मरीजों को उपलब्ध कराने का निर्देश संबंधित विभाग को दें। ताकि कोरोना जैसे भीषण आपदा में राज्य की जनता को कोई असुविधा नहीं हो।        

                                                                     सधन्यवाद !

                                                                    (बाबूलाल मरांडी)

Jharkhand LIVE Staff

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page