द्रौपदी मुर्मू हटाई गईं, रमेश बैस होंगे झारखंड के नए राज्यपाल, जानिए कौन हैं ?

द्रौपदी मुर्मू हटाई गईं, रमेश बैस होंगे झारखंड के नए राज्यपाल, जानिए कौन हैं ?

रमेश बैस झारखंड के नये राज्यपाल बनाये गये हैं। बैस फिलहाल त्रिपुरा के राज्यपाल थे। इस आशय की अधिसूचना जारी कर दी गयी है। 1978 में पहली बार नगर निकाय का चुनाव जीते थे। केंद्र में अटल बिहारी सरकार में 1999 में वन मंत्री रहे हैं। ये रायपुर छत्तीसगढ़ के रहने वाले हैं। इनकी प्रारंभिक शिक्षा भोपाल में हुई है।रमेश बैस से पहले तक द्रौपदी मुर्मू झारखंड की राज्यपाल थीं।

झारखंड के नये राज्यपाल रमेश बैस भारत की 16वीं लोकसभा के सदस्य थे। वे भाजपा से जुड़कर छत्तीसगढ़ के रायपुर निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते रहे हैं। बैस 1978 में रायपुर नगर निगम के लिए चुने गए थे। 1980 से 1984 तक मध्यप्रदेश विधान सभा के सदस्य भी थे। वे 1989 में रायपुर, मध्यप्रदेश (अब छत्तीसगढ़) से 9वीं लोकसभा के लिए चुने गए थे और 11वीं, 12वीं, 13वीं, 14वीं, 15वीं और 16वीं लोकसभा में लगातार निर्वाचित हुए थे। उन्होंने भारत सरकार में केंद्रीय मंत्री के रूप में भी कार्य किया।

खास बातें

2 अगस्त 1947 को जन्मे रमेश बैस को 1978 में पहली बार रायपुर नगर निगम का पार्षद चुने गये थे।

रमेश बैस 1980 से 1984 तक अविभाजित मध्यप्रदेश के विधानसभा सदस्य भी रहे।

1982 से 1988 तक रमेश बैस मध्यप्रदेश सरकार में मंत्री रहे।

1989 में रमेश बैस ने पहली बार 9 वां लोकसभा चुनाव लड़ा और जीतकर संसद पहुंचे।

इसके बाद रमेश बैस 1989 से लगातार 1996 तक लगातार 6 बार लोकसभा सदस्य चुने गये।

छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश के विभाजन के बाद भी रमेश बैस रायपुर लोकसभा क्षेत्र के संसद चुने गए।

रमेश बैस 1998 से 2004 तक केंद्रीय मंत्री रहे। इस दौरान उन्होंने इस्पात और खान, रसायन उर्वरक, सूचना और प्रसारण, खान मंत्रालय, पर्यावरण और वन मंत्रालय को संभाला।

लोकसभा चुनाव में वह कांग्रेस के सत्य नारायण शर्मा (सत्तू भैया), भूपेल बघेल जैसे नेताओं को हराया।

• विभिन्न समितियों में भी रहेः 2009 सदस्य, संयुक्त हिंदी सलाहाकर समिति, विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय, सदस्य, व्यापार सलाहकार समिति; सदस्य, संसद सदस्यों के वेतन और भत्ते पर संयुक्त समिति; सदस्य, आधिकारिक भाषा संबंधी संसद की समिति।

Jharkhand LIVE Staff

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page