हेमंत सरकार ने रघुवर के एक रुपये में महिलाओं के नाम जमीन रजिस्ट्री योजना को किया बंद

हेमंत सरकार ने रघुवर के एक रुपये में महिलाओं के नाम जमीन रजिस्ट्री योजना को किया बंद

झारखंड की हेमंत सरकार ने रघुवर सरकार की एक रुपये में रजिस्‍ट्री होने वाली योजना को बंद कर दिया। इसके लिए विभाग की तरफ से एक  अधिसूचना जारी कर दी गई है। झारखंड सरकार ने यह फैसला राजस्व में हो रहे भारी नुकसान को देखते हुए लिया है।

दरअसल पिछली बीजेपी की रघुवर सरकार ने महिलाओं के नाम पर 50 लाख रुपये तक की प्रॉपर्टी का रजिस्‍ट्री एक रुपये में करने की शुरुआत की थी। यह योजना शुरू होने के बाद भारी संख्या में महिलाओं के नाम पर रजिस्‍ट्री होने लगी थी।

सरकारी आंकड़ो के मुताबिक साल 2017-2018 में कुल 101995 रजिस्‍ट्री हई, जिसमें 53616 महिलाओं के नाम रजिस्‍ट्री हुई। इससे सरकार को 318 करोड़ रुपये के राजस्‍व का नुकसान हुआ। वहीं साल 2018-2019 में कुल रजिस्‍ट्री 124662 हई, जिसमें महिलाओं के नाम 77034 रजिस्‍ट्री हुई, जिससे सरकार को 468 करोड़ रुपये के राजस्‍व का नुकसान हुआ। साल 2019-20 में कुल 106825 रजिस्‍ट्री हुई, जिसमें महिलाओं के नाम 63046 रजिस्‍ट्री हुई, जिससे सरकार को 510 करोड़ रुपये के राजस्‍व का नुकसान हुआ। 

रघुवर सरकार की इस योजना से कुल मिलाकर अब तक 193696 महिलाओं के नाम पर रजिस्‍ट्री हुई है, जबकि झारखंड सरकार को इससे 1296 करोड़ के राजस्‍व का नुकसान हुआ। यही वजह रही की रघुवर सरकार की इस योजना को गठबंधन की हेमंत सरकार ने बंद करने का फैसला किया है।

इधर इस योजना के बंद होने पर पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा “महिला सशक्तिकरण की विरोधी राज्य सरकार ने 1 रुपये में रजिस्ट्री योजना बंद करने का जो निर्णय लिया है, वह निंदनीय है। महिलाओं को आर्थिक और सामाजिक रूप से सशक्त करने के लिए हमारी सरकार ने यह योजना शुरू की थी। वर्तमान राज्य सरकार जनविरोधी नीतियों के लिए जानी जायेगी”।

वहीं कुछ बीजेपी नेताओं ने यह योजना बंद होने के ऐलान के बाद मौजूदा सरकार को महिला विरोधी सरकार करार दिया है।

Jharkhand LIVE Staff

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page