जानिए कब निकलेगा JAC का मैट्रिक व इंटरमीडिएट का रिजल्ट और कैसे मिलेगा मार्क्स

जानिए कब निकलेगा JAC का मैट्रिक व इंटरमीडिएट का रिजल्ट और कैसे मिलेगा मार्क्स

झारखंड में मैट्रिक व इंटरमीडिएट के रिजल्ट की तैयारी जोरों पर है. फार्मूला तय होने के बाद इसमें तेजी आ गयी है. 7 जुलाई तक राज्य के सभी स्कूलों व कॉलेजों को इंटरनल असेसमेंट का अंक देने का निर्देश दिया गया है. ऐसी संभावना है कि मैट्रिक-इंटर का रिजल्ट 20 जुलाई तक आ सकता है.

जानिए जैक का क्या है मार्किंग फॉर्मूला

झारखंड एकेडमिक काउंसिल ने मैट्रिक और इंटरमीडिएट के रिजल्ट को लेकर जो मार्किंग फॉर्मूला तय किया है. उसके मुताबिक  9वीं और 11वीं की ओएमआर शीट पर हुई परीक्षा पर 80 प्रतिशत अंक दिए जाएंगे. जबकि 20 प्रतिशत अंक प्रैक्टिकल से मिलेंगे. 10वीं के रिजल्ट में 80 प्रतिशत अंक कक्षा नौवीं में मिले अंक से लिया जाएगा. जबकि 20 प्रतिशत अंक 10वीं के प्रैक्टिकल से लिए जाएंगे. जिस विषय में प्रैक्टिकल नहीं होते हैं उसमें आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर अंक दिए जाएंगे. 

मैट्रिक के छात्र छात्राओं का आंतरिक मूल्यांकन का आधार क्या-क्या होगा, इसे स्कूल तय करेंगे. उसी आधार पर वे 20 प्रतिशत अंक दे सकेंगे. स्कूल प्रैक्टिकल और इंटरनल असेसमेंट के अंक झारखंड एकेडमिक काउंसिल को उपलब्ध कराएंगे. JAC की ओर से इसके लिए पोर्टल भी तैयार किया जा रहा है. इसमें स्कूल प्रैक्टिकल और आंतरिक मूल्यांकन के नंबर अपलोड कर सकेंगे. JAC की ओर से अगले दो-तीन दिनों में इसका विस्तृत गाइडलाइन जारी किया जाएगा. 

मैट्रिक के रिजल्ट के लिए आंतरिक मूल्यांकन में छात्र-छात्राओं की 9वीं क्लास में उपस्थिति 9वीं में हुए तिमाही-छमाही या अन्य एसेसमेंट, इसके लिए दसवीं के लिए 3 माह के लिए खुले स्कूल में उपस्थिति, JAC के मॉडल प्रश्न पत्र पर परफारमेंस को आधार माना जाएगा. 

आंतरिक मूल्यांकन तय करेंगे स्कूल

मैट्रिक के छात्र छात्राओं का आंतरिक मूल्यांकन का आधार क्या-क्या होगा इसे स्कूल तय करेंगे. उसी आधार पर वे 20 प्रतिशत अंक दे सकेंगे. इसके लिए स्कूलों को छूट दी जाएगी. मैट्रिक के रिजल्ट के लिए आंतरिक मूल्यांकन में  छात्र-छात्राओं की नौवीं क्लास में उपस्थिति नौवीं में हुए तिमाही-छमाही या अन्य एसेसमेंट, दसवीं के लिए तीन माह के लिए खुले स्कूल में उपस्थिति, JAC के मॉडल प्रश्न पत्र पर  परफारमेंस को आधार माना जाएगा.

कक्षा 9वीं और 11वीं में पांच में से चार विषय में पास होने पर प्रमोट होते हैं. विद्यार्थी मैट्रिक-इंटर में छह विषय की परीक्षा होती है, इसमें पांच में पास होना अनिवार्य होगा. पांचवें विषय में पास मार्क्स लाने का फार्मूला कमेटी द्वारा तय की गयी है. इसके अनुरूप अगर कोई विद्यार्थी कक्षा 9वीं की बोर्ड परीक्षा में गणित में फेल है, तो उसे मैट्रिक की परीक्षा में गणित में होनेवाले इंटरनल असेसमेंट और 9वीं की परीक्षा में गणित में मिले अंक मिला कर पास मार्क्स 33 अंक लाना होगा. 33 अंक प्राप्त करने के बाद विद्यार्थी उस विषय में पास हो जायेंगे.

Jharkhand LIVE Staff

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page