हेमंत सरकार ने अब तक वापस नहीं लिया आदेश, लोग बोलें- छठ तो घाट पर ही होगा

हेमंत सरकार ने अब तक वापस नहीं लिया आदेश, लोग बोलें- छठ तो घाट पर ही होगा

झारखंड सरकार ने छठ को लेकर दिशा निर्देश जारी कर दिया है और नदी, तालाब और अन्य छठ घाटों पर अर्घ्य देने से रोक लगा दी है । सरकार ने लोगों से घरों में अर्घ्य देने को कहा है, लेकिन सरकार के इस निर्देश का विरोध शुरू हो गया है। झामुम,कांग्रेस, बीजेपी समेत सभी दलों ने इस दिशा निर्देश को बदलने की मांग कर रही है।

सरकार ने ये दिशा निर्देश रविवार रात में जारी किया था। सोमवार को इसका चौतरफा विरोध होने लगा। सत्ता पक्ष के कई विधायक सीएम के पास पहुंच गए और छठ में नदी, तालाब पर अर्घ्य देने पर लगी रोक को वापस करने का आग्रह किया। विपक्ष के नेताओं ने भी मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को पत्र लिखकर रियायत देने की मांग की।

विरोध प्रदर्शन को देखकर लग रहा था कि सरकार अपने फैसले को जल्द ही बदल देगी, लेकिन अब तक इसपर सरकार ने कोई निर्णय लिया है। सरकार की इस खमोशी पर लोग सवाल उठा रहे हैं। ट्वीटर पर एक मुहिम छेड़ रखा है #छठ_तो_घाट_पर_ही_होगा

किसी तालाब में मनाउंगा छठ- दीपक प्रकाश

इधर बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश ने ऐलान किया कि वह छठ तालाब में ही जाकर मनाएंगे। उन्होंने ट्वीटर पर लिखा “अपने सिर पर दौरा लेकर किसी तलाब में छठ मनाऊंगा.कोरोना का हवाला देकर धर्म और आस्था के साथ खिलवाड़ कर सामान्य नागरिक के मौलिक अधिकार का हनन कर रही है राज्य सरकार. हमारी परम्परा ही हमारी आस्था को सुदृढ़ करती आई है.राज्य सरकार अपने फैसले पर पुनर्विचार करे,वरना पूरा समाज आंदोलन करेगा”।

हालांकि लोग ऐसी उम्मीद लगा रहे हैं कि मंगलवार देर रात तक सरकार कुछ संसोधन के साथ छठ को लेकर नया दिशा निर्देश जारी कर सकती है।

Jharkhand LIVE Staff

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page