पुलिस प्रशासन के खिलाफ कांग्रेस कार्यालय में धरने पर बैठी अंबा प्रसाद , मंत्री मनाकर ले गए CM से मिलाने

पुलिस प्रशासन के खिलाफ कांग्रेस कार्यालय में धरने पर बैठी अंबा प्रसाद , मंत्री मनाकर ले गए CM से मिलाने

हजारीबाग के बड़कागांव से विधायक अंबा प्रसाद आज अपने ही सरकार की पुलिस- प्रशासन के खिलाफ प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में धरने पर बैठ गई थी। जिसके बाद उन्हें मनाने के लिए कांग्रेस विधायक दल के नेता आलमगीर आलम पहुंचे और उन्हें मनाकर अपने साथ सीएम हेमंत सोरेन से मिलवाने के लिए ले गए हैं।

दरअसल कांग्रेस विधायक अंबा प्रसाद का आरोप है कि उनके विधानसभा क्षेत्र में प्रशासन धारा 144 लगाकर माइनिंग का काम कर रहा है। स्थानीय पुलिस भी कंपनियों के पक्ष में काम कर रही है। जो सरासर गलत है। अब विस्थापीत मुझसे पूछ रहे हैं कि बिना निर्णय के माइनिंग का काम कैसे शुरू हो गया।

अंबा प्रसाद पुलिस प्रशासन के इसी कार्यशैली के विरोध में आज प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में धरने पर बैठ गई थी। जब इसकी सूचना ग्रामीण विकास मंत्री आलमगीर आलम को मिली तो वह कांग्रेस मुख्यालय पहुंचे और अंबा से बात की। इसके बाद वह अंबा को मनाकर अपने साथ प्रोजक्ट भवन ले गए। जहां सीएम हेमंत सोरेन से उनकी मुलाकात कराएंगे। अंबा इस वक्त प्रोजक्ट भवन में ही मौजूद हैं।

वहीं कांग्रेस विधायक के धरने पर बीजेपी के प्रवक्ता प्रतुल शहदेव ने तंज कसा है। उन्होंने ट्वीट करके लिखा “अजब सरकार की गजब कहानी। अपने ही पुलिस के खिलाफ सत्ताधारी गठबंधन की माननीय विधायक महोदया जब धरने पर बैठे तो आम जनता का हाल समझा जा सकता हैं”।

बता दें कि कांग्रेस विधायक अंबा प्रसाद विस्थापितों की लड़ाई लड़ते आई है। वह विधायक बनने के बाद से विस्थापितों की समस्याओं को कई बार सीएम हेमंत सोरेन के सामने रख चुकी हैं। इस मसले को वह विधानसभा में भी उठा चुकी हैं। हाल में उनके पहल पर ही सरकार ने विस्थापितों को हक दिलाने के लिए पांच सदस्यीय उच्चस्तरीय कमेटी बनाया था। इस कमेटी में विधायक अंबा प्रसाद भी सदस्य हैं।

Jharkhand LIVE Staff

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page