45 साल पहले इंदिरा ने आज ही के दिन लगाई थी इमरजेंसी, छिन गए थे जनता के सारे अधिकार

45 साल पहले इंदिरा ने आज ही के दिन लगाई थी इमरजेंसी, छिन गए थे जनता के सारे अधिकार

भारत के इतिहास का वो काला दिन था जब तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने देश में आपातकाल लगाया था। आज से ठीक 45 साल पहले 25 जून 1975 की आधी रात को आपताकाल लगाए जाने की घोषणा की गई थी। इंदिरा गांधी की सरकार की सिफारिश पर उस वक्त के तत्कालीन राष्ट्रपति फखरुद्दीन अली अहमद ने संविधान की धारा 352 के अधीन देश में आपातकाल लगाया था।

आपताकाल लगाए जाने के अगले सुबह यानी 26 जून को इंदिरा गांधी ने रेडियो के जरिए पूरे देश को आपातकाल लगाए जाने की जानकारी दी। विपक्ष के तमाम बड़े नेता जयप्रकाश नारायण, मोरारजी देसाई, अटल बिहारी वाजपेयी, लाल कृष्ण आडवाणी, मुलायम सिंह यादव, लालू प्रसाद यादव, नीतीश कुमार समेत कई छोटे-बड़े नेताओं को गिरफ्तार कर जेल में डाल दिया गया।

कहा जाता है की सरकार ने पूरे देश को एक बड़े जेलखाना में बदल दिया गया था। आपातकाल के दौरान नागरिकों के मौलिक अधिकारों को स्थगित कर दिया गया था। यहां तक की मीडिया और अखबार को भी खबर लिखने की आजादी नहीं थी। देश में अराजकता का महौल हो पैदा हो गया था। छात्र से लेकर आम इंसान सड़क पर उतर आए थे।

तस्वीर- अमर उजाला

क्यों लगाया गया था आपातकाल ?

बताया जाता है की आपातकाल की नींव 12 जून 1975 को ही रख दी गई थी। इस दिन इलाहाबाद हाईकोर्ट ने प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को रायबरेली के चुनाव अभियान में सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग करने का दोषी पाया था और उनके चुनाव को खारिज करते हुए छह साल तक चुनाव लड़ने पर और किसी भी तरह के पद संभालने पर रोक भी लगा दी गई थी। कोर्ट के फैसले के बाद इंदिरा गांधी पर विपक्ष ने इस्तीफे का दबाव बनाया, लेकिन उन्होंने इस्तीफा देने से मना कर दिया और हाईकोर्ट के फैसले को मानने से इनकार करते हुए 25 जून को आपातकाल लागए जाने की सिफारिश कर दी ।

हालांकि इंदिरा को 19 महीनों के बाद लोगों के गुस्से का एहसास हो गया था, 18 जनवरी 1977 को उन्होंने अचानक से मार्च में लोकसभा चुनाव कराने का ऐलान कर दिया। 16 मार्च 1977 में हुए चुनाव में इंदिरा और संजय दोनों ही हार गए, कांग्रेस सिर्फ 153 सीटों पर सिमट गई। 21 मार्च 1977 को आपातकाल खत्म हुआ। 23 मार्च 1977 को आजादी के तीस साल बाद केंद्र में गैर कांग्रेसी सरकार बनी। जिसमें मोरार जी देसाई प्रधानमंत्री बने।

Jharkhand LIVE Staff

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page