बेटे से मिलने के लिए मां ने 1800 KM चलाया स्कूटी, मुंबई से पहुंची जमशेदपुर

बेटे से मिलने के लिए मां ने 1800 KM चलाया स्कूटी, मुंबई से पहुंची जमशेदपुर

मुंबई में रहने वाली सोनिया स्कूटी से 1800 किलोमीटर का सफर तय करके जमशेदपुर पहुंची है। वह मुंबई में नौकरी करती थी, लेकिन लॉकडाउन के वजह उसकी नौकरी चली गई और वह वहां पर फंस गई थी। सोनिया के पति और 5 साल का बेटा इस वक्त जमशेदपुर में है।

सोनिया ने बताया कि लॉकडाउन के वजह से वह बेरोजगार हो गयी थीं। इस वजह से वह किराया भी नहीं भर पा रही थी। किराये नहीं देने पर मकान मालिक ने घर से निकाल दिया था। जिसके बाद से वह एक सहेली की यहां रूकी हुई थी।

झारखंड सरकार और महाराष्ट्र सरकार ने की मदद

सोनिया का कहना है कि उसने झारखंड सरकार और महाराष्ट्र सरकार दोनों से मदद मांगी थी, लेकिन दोनों ही जगह मदद के नाम पर सिर्फ आश्वासन मिला। जिसके बाद पति ने जिला प्रशासन से संपर्क किया और तब जाकर आने की अनुमति मिली।

जिला प्रशासन से अनुमति मिलने के बाद सोनिया ने सहेली से स्कूटी मांगी और उसको साथ लेकर निकल गई अपने घर के लिए। सोनिया के पास इस दौरान पेट्रोल भराने और खाने के लिए 5 हजार रुपये थे। जो मुंबई के रहनेवाले लोगों ने जमा करके दिया था। 

जमशेदपुर पहुंचने पर किया गया क्वॉरेंटाइन

सोनिया ने चार दिन तक लगातार स्कूटी चलाकर शुक्रवार की शाम वह जमशेदपुर पहुंच गई है। जमशेदपुर पहुंचने पर सोनिया और उनकी सहेली को टेल्को स्थित क्वॉरेंटाइन सेंटर में रखा गया है। लगातार 4 दिन सफर करने, गाड़ी चलाने के कारण शरीर में काफी थकान और गले में खरास-सर्दी के लक्षण दिखे हैं। प्रशासन की तरफ से बताया गया कि उनका कोरोना टेस्ट होगा और टेस्ट रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद उन्हें घर जाने की अनुमति मिलेगी। सोनिया का घर सोनारी में है।

जमशेदपुर पहुंचने पर सोनिया ने बताया कि सफर कठिन था, लेकिन बेटे और पति से मिलने की इच्छा ने उसे हिम्मत दी और इसी हिम्मत ने 1800 किलोमीटर का सफर तय करवा दिया।

Jharkhand LIVE Staff

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page